बैंकिंग ( Banking ) व बैंकिंग का प्रयोग

क्या आप सभी लोग जानते है की बैंकिंग क्या होती है? तथा बैंकिंग का इस्तेमाल कैसे किया जाता है? हैलो दोस्तो मै टेक्निकल माजिद और आप सभी लोगो का बेकिंग के इस आर्टिकल पर welcome करता हु  यदि बैंकिंग के बारे मे पूरी जानकारी लेना चाहते है कृपया इस पोस्ट को अंत तक पढे 



baking

बैंकिंग ( Banking )


बैंकिंग ( Banking ) 


पिछले दशक में बैंकों में कई कारणों से बड़े - बड़े परिवर्तन हुए हैं । इन कारणों में बैंकों का अन्तर्राष्ट्रीयकरण , बैंकों के बीच व्यापारिक प्रतिस्पर्धा , इलेक्ट्रॉनिक फण्ड ट्रान्सफर ( Electronic Fund Transfer [ ( EFT ] ) , कैपिटल मार्केट ( Capital Market ) , अनियमितता ( Deregulation ) इत्यादि प्रमुख  है


बैंकों में उनके ग्राहकों ( Clients ) की बड़ी संख्या और निरन्तर बढ़ती हुई संख्या के कारण प्रतिदिन होने वाले ट्रान्जैक्शन्स ( Transactions ) की बड़ी मात्रा को प्रोसेस और प्रबन्धित करना एक विचारणीय और महत्वपूर्ण मुद्दा होता है । मानवीय विधि से इन ट्रान्जैक्शनों को प्रोसेस और प्रबन्धित करना करीब - करीब असंभव है । 


What do you mean by banking?


सूचना तकनीक ( Information Technology ) ने बैंकों को इस समस्या को हल करने में सहायता प्रदान की है । बैंकों के कम्प्यूटरीकरण ने एकाउण्ट बुक्स ( Account Books ) के बैलेन्स ( Balance ) को मेनटेन ( Maintain ) करने में सहायता की है । बैंकों के कम्प्यूटरीकरण के फलस्वरूप ग्राहकों को उनके बैंक बैलेन्स ( Bank Balance ) से सम्बन्धित जानकारी तत्क्षण मिल जाती है । 

दूसरे शब्दों में , कम्प्यूटरीकृत बैंक अपने ग्राहकों के क्वेरी ( Query ) के लिए ऑन - लाइन सर्विस ( On - line Services ) प्रदान करते हैं । बैंकों के कम्प्यूटरीकरण के परिणामस्वरूप , एक एकाउन्ट से दूसरे एकाउन्ट में इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रान्सफर ( Electronic Fund Transfer ) सम्भव हो सका है । 

चेक ( Cheque ) को लिखने और पढ़कर प्रोसेस करने के लिए MICR टेक्नोलॉजी ( Magnetic Ink Character Recognition Technology ) को कम्प्यूटरीकृत बैंकों में प्रयोग करने से चेकों ( Cheques ) के प्रोसेसिंग में होने वाले विलम्ब को करीब - करीब दूर किया जा सका है । 


ऑटोमेटिक टेलर मशीन ( Automatic Teller Machine - ATM ) के विकास से बैंकों को मानव - रहित कार्यरत स्थिति में वांछित स्थान पर स्थापित करना संभव हो सका है । 


What is banking in simple words?

banking in simple words

baking in simple word


विभिन्न बैंकों द्वारा ATMs को विभिन्न कार्यालयों , बड़ी - बड़ी कम्पनियों , बड़ी - बड़ी कॉलोनियों इत्यादि जगह पर स्थापित किया जा चुका है , जिसकी सहायता से ग्राहक ( Customer ) , अपने एकाउन्ट में मुद्रा जमा कर सकते हैं  अपने एकाउन्ट से मुद्रा निकाल सकते हैं 

अपने एकाउन्ट से किसी अन्य एकाउन्ट में मुद्रा का स्थानान्तरण ( Transfer ) कर सकते हैं । 


How do banks work?

How do banks work?
How do bank work


ATM मशीन को सक्रिय करने अर्थात् इसे कार्य करने की स्थिति में लाने के लिए , सर्वप्रथम 

इसमें आपको अपना एटीएम कार्ड ( ATM Card ) इन्सर्ट ( Insert ) करना पड़ता है और इसके पश्चात् इसके कीबोर्ड से अपना पर्सनल आइडेन्टिफिकेशन नम्बर ( Personal Identification Number [ PIN ] ) प्रविष्ट ( Enter ) करना पड़ता है । 


प्रत्येक बैंक कार्ड के पीछे आपके PIN के साथ उस बैंक का आपका एकाउन्ट नम्बर भी सूक्ष्म रूप से लिखा होता है , जो अदृश्य होता है । 

बैंक कार्ड को इन्सर्ट कर अपना PIN इन्टर करने के पश्चात् आपको ATM स्क्रीन पर प्रदर्शित होने वाले निर्देशों Instructions ) का पालन करना पड़ता है । 

यदि आप कोई गलती करते हैं , तो यह मशीन उसके बारे में आपको सूचित करती है और आपके द्वारा उसे सही करने की प्रतीक्षा करती है । अपने एकाउन्ट में पैसा जमा करने के लिए आपको पैसा ( Money ) या चेक ( Cheque ) को उचित ड्राअर ( Drawer ) अथवा स्लॉट ( Slot ) में रखना होता है । यदि आप ATM से कैश ( Cash ) निकालने के लिए  रिक्वेस्ट ( Request ) करते हैं , 

तो यह आपके खाते को जांचता है कि आपके खाते में रिक्वेस्ट ( Request ) की गई राशि बैलेन्स में है अथवा नहीं । यदि आपके खाते में बैलेन्स है , तो यह आपके द्वारा रिक्वेस्ट ( Request ) की गई राशि को उचित ट्रे ( Tray ) या ड्रॉअर ( Drawer ) में गिनकर रख देता है । 

यह राशि बैंक द्वारा निर्धारित डेली लिमिट ( Daily Limit ) के अन्दर होती है । आप द्वारा निकाली गई राशि या जमा की गई राशि से आपके एकाउन्ट का बैलेन्स अपडेट हो जाता है


Final Word :


दोस्तो मै आशा करता हु की आप लोगो को बैंकिंग से जुड़ी सभी जानकारी मिल गयी होगी यदि आप के पास कोई Question है तो आप कमेंट बॉक्स मे पूछ सकते है